भाषा किसे कहते हैं? Bhasha Kise Kahte hai?

Bhasha Kise Kahate Hain?भाषा किसे कहते हैं?:- भाषा जो कि दुनिया का सबसे महत्वपूर्ण संसाधन है भाषा मानव जीवन के साथ साथ सभी जीवित प्राणियों के जीवन की नींव है।

हम बिना भाषा का उपयोग रह नहीं सकते है क्योकि,

भाषा वह साधन है जिसके अभाव से विकाश की गति रुक सकती है। किसी भी प्राणियों की जीने की आशा भाषा से शुरू होता है।

बिना भाषा के ना तो प्रगति ना तो जीवन दोनो असम्भव से है।

दुनिया मे हजारों किस्म की भाषा पायी जाती है। लोग एक दूसरे की भावनाओं को समझने या खुद की भावनाओं को व्यक्त करने के भाषा का प्रयोग करते है जो हमारे मुख से निकलती है।

भाषा की खोज हम मनुष्यों ने ही कि है जो कि प्राचीन समय के विद्वानों तथा पूर्वजों की एक सुनहरी देन है।

आज हम इसी भाषा से जुड़े महत्वपूर्ण सवाल जैसे भाषा किसे कहते है, Bhasha kise kahte hain, Bhasha kise kahate hai, भाषा कितने प्रकार की होती है, भाषा के कितने रूप होते है?, मातृ भाषा क्या है आदि के बारे में विस्तृत से जानकारी हाशिल करेंगे।

भाषा किसे कहते हैं?

भाषा किसे कहते हैं?
भाषा किसे कहते हैं?

एक दूसरे की भावनाओ को समझने के लिए जिस माध्यम का उपयोग किया जाता है उसे भाषा कहते है।

मुख से निकले वाले यह वह शब्द या वाक्य जिसके द्वारा हम अपनी भावनाओं या मन के भाव को दूसरे के समक्ष रखते है भाषा कहते है।

भाषा अलग अलग की हो सकती है क्योंकि दुनिया मे अनेको भाषाएँ पायी जाती है तथा सभी देश की अपनी अपनी मातृभाषा होती है।

उदाहरण के लिए:- हिंदी, अंग्रेजी, कन्नड़, मलयालम, भोजपुरी, चीनी, फ्रेंच आदि।

हमारे देश भारत मे ही अनेक प्रकार की भाषा पायी जाती है यहां प्रत्येक राज्य की अपनी अपनी राज्य भाषा है।

जैसे हिंदी को सात राज्यों की राजभाषा के रूप में उपयोग किया जाता हैं।

. राष्ट्रीय बाल दिवस

भाषा कितने प्रकार की होती हैं?

भाषा तीन प्रकार की होती है।

  1. लिखित भाषा
  2. मौखिक भाषा
  3. सांकेतिक भाषा

1. लिखित भाषा किसे कहते हैं?

अपने अंदर की भावनाओं को लिखकर एक दूसरे के सामने जाहिर करना या रखना लिखिति भाषा कहलाता है।

जैसे- कोई हमसे दूर है तो हम उस व्यक्ति को पत्र के माध्यम से अपनी समस्या, खुशी, दुख आदि का इजहार कर सकते है।

किताब किसी व्यक्ति के जीवन का सम्पूर्ण निचोड़ होता है। वह व्यक्ति अपने जीवन में मिला सारा तजुर्बा को किताब के मध्याम से प्रस्तुत करता है।

2. मौखिक भाषा किसे कहते हैं?

हम अपने विचारों, भावनाओं, सुख, दुख आदि को स्वयं अपने मुख द्वारा दूसरे के समक्ष प्रस्तुत कर सके। उसे मौखिक भाषा कहते हैं।

जैसे- मुझे भूख लगी है
अंजू मैं सोच रहा हु की कही घूमने चला जाये।
आज मैं बहुत खुश हूं क्योंकि मुझे पापा ने नया फ़ोन गिफ्ट दिया हैं।

3. सांकेतिक भाषा किसे कहते हैं?

हम अपने सामने वाले व्यक्ति को अपनी बात इसारे से समझाये उसको कहते है सांकेतिक भाषा।

जैसे- जो व्यक्ति बोल नही सकते वह अपनी बात संकेत या इशारे से समझाते हैं।

मातृभाषा किसे कहते हैं।

वह बोली या भाषा जो बच्चे को जन्म से उसके माता पिता के द्वारा सुनाई पड़ती है उसे मातृभाषा कहते है।

जैसे हमारी मातृभाषा हिंदी क्योकि हमने जिस समाज मे जन्म लिया वहाँ बचपन से ही हमे हिंदी सुनने को मिली।

इसी प्रकार जो व्यक्ति इंग्लिश बचपन से सुनता है तो इंग्लिश ही उसकी मातृभाषा हो जाती है।

मातृभाषा जन्म से लेकर मृत्यु तक हमारे मस्तिष्क में याद रहती हैं।

राज भाषा किसे कहते हैं?

राज भाषा, जो भाषा के सरकारी काम काज में उपयोग में आती हो उसे राज भाषा कहते है, हिंदी राज्य भाषा के रूप में प्रयोग की जाती है।

हमारी हिंदी भाषा को सात राज्यो में राज्य भाषा के रूप में प्रयोग में लाया जाता है।

भाषा के कितने रूप होते हैं?

भाषा के तीन रूप होते हैं

  1. मौखिक भाषा
  2. लिखित भाषा
  3. सांकेतिक भाषा
  1. लिखित भाषा

अपने अंदर की भावनाओं को लिखकर एक दूसरे के सामने जाहिर करना या रखना लिखिति भाषा कहलाता है।

जैसे- कोई हमसे दूर है तो हम उस व्यक्ति को पत्र के माध्यम से अपनी समस्या, खुशी, दुख आदि का इजहार कर सकते है।

जैसे- पत्र के माध्यम से, बुक के माध्यम, sms के माध्यम से आदि।

  1. मौखिक भाषा

हम अपने विचारों, भावनाओं, सुख, दुख आदि को स्वयं अपने मुख द्वारा दूसरे के समक्ष प्रस्तुत कर सके। उसे मौखिक भाषा कहते हैं।

जैसे- मुझे बहुत प्यास लगी हैं
रोहित तुमने यह अच्छा नही किया, मुझे तुम्हारे ऊपर गुस्सा आ रहा है।
आज भारत पाकिस्तान का मैच होगा।

3. सांकेतिक भाषा

हम अपने सामने वाले व्यक्ति को अपनी बात इसारे से समझाये उसको कहते है सांकेतिक भाषा।

जैसे- जो व्यक्ति बोल नही सकते वह अपनी बात संकेत या इशारे से समझाते हैं।

भारत में कितने प्रकार की भाषाएँ बोली जाती हैं?

भारत एक बहुत ही बड़ा देश है तथ इसमे राज्यों की संख्या भी 28 है।

और यह सभी राज्यों में विभिन्न प्रकार के जाति धर्म के लोग निवाश करते है।

इसलिए सभी राज्यों की अपनी अपनी राजभाषा है। संविधान के अंतर्गत 22 भाषाओं को मान्यता प्राप्त है।

लेकिन देश मे कुल 121 भाषाएँ बोली जाती है।

Related Q&A

  1. भाषा किसे कहते हैं?

उत्तर:- मन की बातो को लिखकर, पढ़कर, बोलकर दूसरों के समक्ष रखने को भाषा कहते हैं।

2. भारत में कितने प्रकार की भाषा बोली जाती हैं?

उत्तर:- भारत में 121 भाषाएँ बोली जाती है।

3. संविधान के आधार पर कितनी भाषाओं को मानयता प्राप्त हैं?

उत्तर:- 22 भाषाओं को

4. भाषा के कितने प्रकार होते हैं?

उत्तर:- तीन प्रकार की

निष्कर्ष:- हमने बहुत ही ही महत्वपूर्ण प्रश्न में यह पढ़ा की भाषा किसे कहते हैं?, इसके अलावा कुछ और महत्वपूर्ण प्रश्न जैसे भाषा के कितने रूप होते हैं, भाषा कितने प्रकार की होती हैं?, भारत में कितनी भाषा बोली जाती है आदि को पढ़ा।

अगर आपको किसी भी तरह सा जवाब या सुझाव चाहिए तो आप हमसे संपर्क कर सकते हैं।

1 thought on “भाषा किसे कहते हैं? Bhasha Kise Kahte hai?”

Leave a Comment

Open chat
Hello