मनोविज्ञान (Manovigyan) क्या है? मनोविज्ञान की परिभाषा?

मनोविज्ञान की परिभाषा

किसी भी प्राणी या व्यक्ति के मानसिक प्रक्रियाओं और व्यवहारों के अध्ययन को मनोविज्ञान कहते है। इस विज्ञान में जीवो का अध्ययन उनकी बोल-चाल तथा उनकी मानसिक प्रक्रिया के आधार पर किया जाता है। जीवों का अर्थ पशु और मानव दोनों से है।

psychology शब्द ग्रीक भाषा के दो शब्दों से मिलकर बना है।

Psyche (आत्मा ) + logos (अध्ययन ) इसलिए इसे पहले आत्मा का अध्ययन या आत्मा का विज्ञान कहा जाता था।

मनोविज्ञान,  manovigyan,  मनोविज्ञान की परिभाषा?, manovigyan kya hai?, manovigyan in hindi, manovigyan ki paribhasha?, psychology kya hai,
psychology

इस विज्ञान के जनक कौन है?

महान दार्शनिक अरस्तु को मनोविज्ञान का जनक कहा जाता है। अरस्तु ने ही manovigyan की खोज की है।

मनोविज्ञान की खोज कब हुई थी?

पहले मनोविज्ञान दर्शन शास्त्र की एक शाखा हुआ करती थी। लेकिन सन 1879 में जर्मनी के मनौविज्ञान Wilhelm Wundt ने इसकी पहली प्रयोगशाला बनायीं।

उन्होंने इस प्रयोगशाला में मनौविज्ञान से जुड़े प्रयोग किये। इस प्रयोगशाला के बनने के बाद यह दर्शन शास्त्र से अलग होकर एक नया विषय बन गया।

आधुनिक manovigyan की खोज 1879 में हुयी थी। तथा आधुनिक मनौविज्ञान का जनक Wilhelm Wundt को माना जाता है।

यह भी पढ़े:- शराब (Sharab) सेहत के लिए कितना हानिकारक है?

आधुनिक मनोविज्ञान के जनक कौन है?

आधुनिक मनौविज्ञान के जनक विल्हेम मैक्समिलियन वुंड (Wilhelm Maximilian Wundt) हैं।

यह जर्मनी के महान दार्शनिक तथा चिकित्सक हैं। इनका जन्म 16 अगस्त सन 1832 में हुआ था तथा इनकी मृत्यु 31 अगस्त 1920 में हुयी थी।

बाल मनौविज्ञान के जनक कौन हैं?

बाल मनोविज्ञान के जनक जिन पिया गेट है।

1 thought on “मनोविज्ञान (Manovigyan) क्या है? मनोविज्ञान की परिभाषा?”

Leave a Comment

Open chat
Hello