हिंदी व्याकरण

संज्ञा की परिभाषा तथा भेद

noun किसे कहते हैं, sangya किसे कहते है, संज्ञा की परिभाषा तथा भेद

संज्ञा किसे कहते हैं, संज्ञा की परिभाषा

किसी व्यक्ति, वस्तु, स्थान आदि के नाम को संज्ञा कहते है। या

किसी जाति, गुण, स्थान, द्रव, तथा भाव के नाम को संज्ञा कहते हैं।

आप साधारण भाषा मे समझ लीजिए कि कोई भी वस्तु, व्यक्ति या स्थान हो जिसका कुछ नाम हो उसे Sangya (Noun) कहते हैं।

दुनिया मे किसी का भी नाम है तो वह Noun है

यहां तक कि हमारे सभी भगवान, पृथ्वी आदि सभी Sangya है।

जैसे- सचिन, अंजलि, वाराणसी, बिल्ली, आदि।

हिंदी व्याकरण के अनुसार Sangya के 3 तथा इंग्लिश व्याकरण के अनुसार “संज्ञा के 5 भेद होते हैं”

1. व्यक्तिवाचक

2. जातिवाचक 

3. समूहवाचक

4. द्रव्य वाचक

5. भाव वाचक

संज्ञा के कितने भेद होते है

इसके पांच भेद होते हैं जो इस प्रकार हैं

1. व्यक्ति वाचक (Proper Noun)

2. जाति वाचक  ( Common Noun)

3. द्रव्यवाचक    (Material Noun)

4. समूहवाचक   (Collective Noun)

5. भाववाचक.   (Abstract Noun)

1- व्यक्तिवाचक :- proper Noun

जो शब्द किसी विशेष व निश्चित व्यक्ति, वस्तु व स्थान की जानकारी देते हैं उसे व्यक्तिवाचक संज्ञा कहते हैं।

नरेन्द्र मोदी भारत के मौजूदा प्रधानमंत्री है-  विशेष व्यक्ति – नरेंद्र मोदी

श्रीमदभागवतगीता हमारी धर्म पुस्तक है विशेष वस्तु- श्री मदभागवत गीता

वाराणसी, महादेव की नगरी है। निश्चित स्थान -वाराणसी

2. जातिवाचक- Common Noun

किसी भी प्राणी, जंतु एवं समूह की जानकारी देने वाले शब्दो को जातिवाचक संज्ञा कहते हैं।

सचिन खेल रहा है

बच्चे खेल रहे है

3. द्रव्यवाचक- Material Noun

 वे संज्ञा शब्द जो ऐसे पदार्थों तथा द्रव्यों को बोध कराते हैं जिनसे नई वस्तुए बनती है और जिनका माप तोल किया जा सके।

जैसे:- दूध, पानी, चाय इत्यादि

4. समूहवाचक – Collective Noun

ऐसे शब्द जिनसे किसी समूह का बोध होता है उसे समूहवाचक Sangya कहते है। 

जिसमे किसी व्यक्ति, जानवर, वस्तु आदि कोई भी चीज हो सकती है जो समूह में हो सकती है।

बकरियां घास चर रही है (यहाँ बकरियां शब्द आया है जिससे यह प्रतीत होता हैं कि बहुत सी बकरिया साथ घास चर रही है)

बच्चें कक्षा में पढ़ रहे है। (Collective Noun)

. काल किसे कहते हैं? काल के कितने प्रकार होते हैं?

भाववाचक- Abstract Noun

जिन शब्दों से किसी प्राणी अथवा पदार्थ के गुण-दोष या भाव का बोध होता है उसे भाववाचक संज्ञा कहते हैं।

जैसे:- हसना, रोना, सुख, दुःख आदि। 

उदाहरण:- वह बहुत उदास है। 

सगन बहुत हँसता हैं। 

QNA:-

संज्ञा के कितने भेद होते हैं?

(a). पांच भेद

(b). चार भेद

(c). दो भेद

(d). इनमे से कोई नहीं

(2). हिंदी व्याकरण के अनुसार संज्ञा के कितने भेद होते है?

(a). 5 भेद

(b). 6 भेद

(c). 3 भेद

(d). 2 भेद

निष्कर्ष:- हमने इस लेख के माध्यम से यह जानकारी हासिल किया की Noun किसे कहते है इसकी परिभाषा क्या है तथा इसके कितने भेद होते हैं।

View Comments

Recent Posts

राष्ट्रीय बाल दिवस- Children’s Day 2021

राष्ट्रीय बाल दिवस:- दोस्तों हम सभी कभी ना कभी तो इस स्कूल जरूर गए होंगे… Read More

22 hours ago

नदी का पर्यायवाची शब्द | Nadi Ka Paryavachi Shabd

नदी का पर्यायवाची शब्द क्या होगा हमारे देश मे बहुत सी नदिया बहती है नदियों… Read More

2 days ago

अंधकार का विलोम शब्द

हिंदी व्याकरण से सम्बंधित इस प्रश्न अंधकार का विलोम शब्द क्या है? के बारे में… Read More

7 days ago

जीवन का विलोम शब्द

जीवन का विलोम शब्द अधिकांश प्रतियोगी परीक्षाओं में पूछा जा चूका है यह विलोम शब्द… Read More

7 days ago

आकाश का विलोम शब्द

आकाश का विलोम शब्द, Aakash ka vilom shabd, aakash ka vilom, आकाश का विलोम:- हम… Read More

1 week ago

संज्ञा के कितने भेद होते हैं?

संज्ञा के कितने भेद होते हैं:- आज हम हिंदी व्याकरण से जुड़े महत्वपूर्ण विषय के… Read More

2 weeks ago